Delhi ki taza khabar: छह साल बाद दिल्ली में होने वाला है खास प्रोग्राम, सभी प्रदेशों के मुख्यमंत्री और हाईकोर्ट के जज दिखेंगे एक साथ

0
129

Delhi today news in hindi: नई दिल्ली। राज्यों के मुख्यमंत्रियों और उच्च न्यायालयों के मुख्य न्यायाधीशों का सम्मेलन छह साल के अंतराल के बाद 30 अप्रैल को आयोजित किया जाएगा जिसमें त्वरित न्याय प्रदान करने, लंबित वादों की संख्या कम करने और न्यायपालिका में रिक्तियों की बढ़ती संख्या पर प्रमुखता से बात हो सकती है। यह सम्मेलन न्यायपालिका के सामने आने वाली चुनौतियों पर चर्चा का मंच होता है। पिछली बार ऐसा सम्मेलन 24 अप्रैल, 2016 को आयोजित हुआ था। इस तरह के सम्मेलनों का उद्घाटन सामान्य रूप से भारत के प्रधान न्यायाधीश और केंद्रीय विधि मंत्री की उपस्थिति में प्रधानमंत्री करते हैं। इस बार भी दिन भर चलने वाले सम्मेलन का उद्घाटन प्रधानमंत्री कर सकते हैं।

25 हाईकोर्ट में जज के पद खाली

सम्मेलन के एजेंडा को अभी अंतिम रूप नहीं दिया गया है, लेकिन सरकार के सूत्रों ने बताया कि त्वरित न्याय प्रदान करना, निचली अदालतों और 25 उच्च न्यायालयों में रिक्त पद, न्यायिक अवसंरचना तथा लंबित याचिकाओं को कम करने जैसे मुद्दों पर इसमें विचार-विमर्श हो सकता है। कुछ महीने पहले प्रधान न्यायाधीश एनवी रमण ने सरकार को एक भारतीय राष्ट्रीय न्यायिक अवसंरचना प्राधिकरण (एनजेआईएआई) गठित करने का प्रस्ताव भेजा था ताकि अदालतों के लिए पर्याप्त बुनियादी संरचना सुनिश्चित की जा सके। प्रस्तावित संस्थान भारतीय अदालत प्रणाली के लिए योजना, सृजन, विकास, रख-रखाव और कार्यशील अवसंरचना के प्रबंधन की रूपरेखा तैयार करने के लिहाज से एक केंद्रीय निकाय के रूप में काम करेगा।

सम्मेलन में क्या-क्या होंगे कार्यक्रम

सरकार ने संसद को सूचित किया है कि राज्य सरकारों की टिप्पणियों के लिए प्रस्ताव उन्हें भेजा गया है क्योंकि उच्च न्यायालयों तथा निचली न्यायपालिका के लिए अवसंरचना विकसित करने में राज्य सरकारों की अहम भूमिका होती है। सूत्रों ने कहा कि यह स्पष्ट नहीं है कि एजेंडा में एनजेएआई का विषय रहेगा या नहीं, लेकिन अदालतों के लिए आधारभूत संरचना के उन्नयन के लिए एक व्यापक एजेंडा पर बातचीत हो सकती है। सम्मेलन के उद्घाटन के बाद अनेक कामकाजी सत्र आयोजित किये जाते हैं जहां सभी मुख्यमंत्री और उच्च न्यायाधीश एजेंडा के बिंदुओं पर चर्चा करते हैं और आम-सहमति पर पहुंचने की कोशिश करते हैं। इस तरह के सम्मेलन सामान्यत: दो साल में एक बार होते हैं, लेकिन कुछ अपवाद भी हैं। पिछली बार सम्मेलन का आयोजन अप्रैल, 2016 में किया गया था। इससे पहले सम्मेलन 2015 में हुआ था और उससे पहले ऐसा सम्मेलन 2103 में आयोजित किया गया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here