Delhi khabar hindi: साफ-सफाई के जरिए आप नेता का BJP पर हमला, आतिशी बोलीं-कूड़ा निपटारे के लिए विधायकों से पैसा मांग रही पूर्वी निगम

0
124

delhi khabar hindi jankar: नई दिल्ली। ठोस कचरे के निपटारे के लिए विकेंद्रिय संयंत्र लगाने को लेकर विधायकों से पैसा मांगने पर आम आदमी पार्टी ने भाजपा शासित पूर्वी नगर निगम पर हमला बोला है। आप विधायक आतिशी ने कहा कि निगम में 15 साल से भाजपा की सरकार है। निगम का मुख्य काम कूड़े का निपटारा करना है। इसके लिए उसे दिल्ली सरकार से पर्याप्त पैसा मिलता है, मगर साफ-सफाई व कू़ड़ा निपटारा में निगम फेल रहा है। अब विधायकों से कूड़ा निपटारे प्रबंधन करने के लिए पत्र लिखकर पैसा मांग रही है। भाजपा शासित एमसीडी को पहले यह बताना होगा कि उन्हें पहले जो पैसे दिए गए थे, उनसे क्या किया।

भाजपा का AAP से सवाल, कूड़े के ढेर खत्म करने में केजरीवाल सरकार ने क्या किया

भाजपा ने दिल्ली की सफाई व कूड़ा प्रबंधन का किया बेडागर्क

पार्टी कार्यालय में आयोजित पत्रकारवार्ता में आतिशी ने कहा कि बीते 15 साल से भाजपा ने दिल्ली की सफाई व कूड़ा प्रबंधन का बेडागर्क किया है। उसी का नतीजा है कि आज दिल्ली में तीन कूड़े का पहाड़ बने हुए है। कूड़े का यह प्रमाण यह बताता है कि भाजपा सफाई को लेकर कोईकाम नहीं किया है। उस कूड़े के पहाड़ में कई बार आग लग चुकी है। हाल ही में दो बार आग लगी। इसके निस्तारण को लेकर कोईतरीका नहीं निकाला गया। यहय हम नहीं बल्कि खुद विधानसभा की पर्यावरण समिति में बुलाएं गए एमसीडी के अधिकारियों ने कहा। उसमे उन्होंने माना कि उनके पास न तो कोई योजना है, ना ही कोई समयबद्ध योजना है और ना ही योग्यता है।

 महंगाई पर AAP ने केन्द्र सरकार को घेरा, सीएनजी की दरें, ऑटो-टैक्सी फिटनेस जांच में देरी का जुर्माना घटाने की मांग

दिल्ली सरकार से मिले पैसे का हिसाब दें नगर निगम

अब पूर्वी निगम में काबिज भाजपा विधायकों को चिट्ठी लिखकर विकेंद्रीय कूड़ निपटारा संयंत्र लगने के लिए विधायक निधि से पैसा मांग रही है। मैं भाजपा से पूछना चाहती हूं कि दिल्ली सरकार से उन्हें जो पैसे सफाई के लिए 1207 करोड़ मिला उसका क्या हुआ। उसके अलावा सरकार ने उन्हें जो लोन दिया था उस पैसे का क्या हुआ। साफ सफाई से जो पैसा मिल रहा है वो पैसा कहा गया। कूड़े के प्रबंधन को लेकर 15 साल में भाजपा ने जो किया है उससे लगता है कि सारा पैसा भाजपा नेता अपनी जेब भरते है। यही नहीं निजी कंपनी से सांठ गांठ की जाती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here